Google Analytics Kya Hai in Hindi

Google Analytics से Confused हैं? समझ नहीं आ रहा है कि Google Analytics कैसे इस्तेमाल करें? क्या आप ये भी नहीं जानते कि Google Analytics Kya Hai? तो घबराने की जरूरत नहीं है। आप अकेले नहीं हैं जिन्हे Google Analytics के Complicated Looks और Interface ने परेशान किया है। 

वेबसाइट या ब्लॉगिंग शुरू करने वाले ज़्यादातर लोग Google Analytics Use करना नहीं जानते। जो जानते हैं उन्हे इसकी Reports और Metrics के Data समझने में बहुत समय लग जाता है। Google Analytics एक Powerful Tool है लेकिन अधिकतर लोग इसको पूरी तरह से Full Potential में इस्तेमाल नहीं कर पाते।

इसलिए हमने इस Guide में वेबसाइट को बेहतर बनाने के लिए Google Analytics कैसे इस्तेमाल की पूरी जानकारी दे दी है। इसमें अपना अकाउंट कैसे Set up करें से लेकर वेबसाइट पर विज़िटर को ट्रैक करने और उनका विश्लेषण करने तक की पूरी जानकारी बताई गई है। 

इसके इस्तेमाल से आप यह भी जानेंगे कि कितने लोग आपकी वेबसाइट पर Visit करते हैं और आपकी साइट पर आने वाले Visitors कैसे आपकी साइट से Behave करते हैं। Google Search Control के बावजूद आपको इसकी जरूरत क्यों है। 

लेकिन सबसे पहले चलिये समझते हैं कि Google Analytics Kya Hai और इसे क्यों इस्तेमाल करते हैं।

यह भी पढ़े:

Google Search Console क्या है

Free Keyword Research Tools

Google Analytics Kya Hai? Google Analytics in Hindi

Google Analytics वेबसाइट ट्रैफ़िक को ट्रैक करने के लिए गूगल का एक फ्री रिपोर्टिंग टूल है। यह टूल आपको बताता है कि कितने लोग आपकी साइट पर आए और विज़िटर आपकी वेबसाइट का उपयोग कैसे करते हैं।

इसके साथ ही Google Analytics आपकी साइट पर आने वाले लोगों और उनके Browsing behaviours के बारे में में भी बताता है। 

Google analytics kya hai

उदाहरण के लिए मान लीजिये कि आप एक ईकॉमर्स वैबसाइट के मालिक हैं और जानना चाहते हैं कि आपकी वेबसाइट पर कितने Users आते हैं। Google Analytics की सहायता से आप आसानी से पता कर सकते हैं कि आपकी वैबसाइट पर कितने Users आते हैं, वे कहां से आ रहे हैं, और वे किस डिवाइस का उपयोग कर रहे हैं। 

Google Analytics गूगल के अन्य मार्केटिंग और Advertisement प्लेटफ़ॉर्म जैसे कि Google Ads, Search Console, and Data Studio के साथ आसानी से Integrate हो जाता है। 

वैसे तो मार्केट में कई अच्छे Analytics Tools हैं, लेकिन Google Analytics सबसे ज्यादा इस्तेमाल किए जाने वाले एनालिटिक्स टूल में से एक है।

Google Analytics क्यों इस्तेमाल करते हैं?

किसी भी सर्विस या प्रॉडक्ट प्रदान करने वाली साइट या किसी भी प्रकार की वेबसाइट चलाने वाले व्यक्ति को अपने User की बेहतर समझ होना बहुत जरूरी है। Visitors और अपने Customers के बारे में जानने से बेहतर Service और Products बनाने में मदद मिलती है।

Google Analytics किसी भी वेबसाइट पर विज़िटर या Customers को ट्रैक करने और उनका Analysis (विश्लेषण) करने का एक बेहतरीन, आसान और फ्री टूल है। हो सकता है कि आपकी साइट पर हर महीने हजारों या लाखों Visitors आते हों, लेकिन अगर आप उनके बारे में कुछ नहीं जानते हैं तो उन Visitors की संख्या का आपके लिए कोई खास फायदा नहीं है। 

अपने Visitors और Audience को समझने, जानने और उनका Analysis करने के लिए हम Google Analytics का इस्तेमाल करते हैं। 

अपने Advanced वेब एनेलिटिक्स और रिपोर्टिंग टूल की मदद से Google Analytics विज़िटर को Customers में बदलने में आपकी सहायता करता है। अगर आप Blogger हैं और अपने ब्लॉग को और अधिक लोकप्रिय बनाना चाहते हैं तो गूगल Analytics से आपको अपने Readers के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी मिल सकती है। 

Google Analytics की सहायता से आप आसानी से पता कर सकते हैं कि आपके ब्लॉग में किस Topics को ज्यादा पसंद किया जा रहा है और आपके Audience किस तरह से आपके Blog के साथ Interact करते हैं। इससे आप अपनी साइट या ब्लॉग में User Engagement भी बढ़ा सकते हैं। 

नीचे दिये गए कारणों से आप समझ सकते हैं कि आपको Google Analytics का उपयोग क्यों करना चाहिए:

  • आपकी साइट को कितना ट्रैफ़िक मिलता है-गूगल अपने एनालिटिक्स ट्रैकिंग कोड के जरिये आपकी साइट पर आने वाले लोगों की संख्या बता सकता है। इससे किसी साइट या ब्लॉग की लोकप्रियता का पता चलता है। इसके अलावा Google Analytics से यह भी पता चलता है कि किन वेबसाइटों या सोर्स से आपकी साइट पर ट्रैफ़िक आया है। 
  • Customer Preference जानने के लिए– गूगल Analytics से हमें अपनिवेबसाइट पर आने वाले सब Visitors के बारे में Detailed जानकारी मिलती है। अपने Customer और उसकी जरूरतों या Behaviour को समझने से हम और ज्यादा बेहतर सेवाएँ दे सकते हैं। Customer Preference जानना किसी भी सफल बिज़नस या वेबसाइट की पहली शर्त होती है। 
  • यह फ्री टूल हैGoogle Analytics की सभी Reports और Data एकदम फ्री हैं जो बिना किसी Subscription Charge के गूगल द्वारा प्रदान कराई जाती हैं। (हालांकि Google Analytics का Version Google Analytics 360 एक Paid टूल है जो Enterprise Version है। इस प्रीमियम टूल में Advanced Tools जैसे कि Unsampled Reports, BigQuery Export, और Data Driven Attribution का विकल्प मिलता है।)
  • Analytics रिपोर्ट automatic तैयार हो जाती है-एक बार Google Analytics का Tracking Code अपनी वेबसाइट में डाल देने के बाद Google Analytics Automatic रूप से आपके डेटा को ट्रैक, रिकॉर्ड और Store कर लेता है।
  • Google के अन्य Tools के साथ Integrate हो जाता है-Google Analytics आसानी से गूगल के अन्य Tools जैसे कि Google Search Console, Google Ads, Data Studio, Google Tag Manager, और Google Optimize के साथ एकीकृत या Integrate हो जाता है। 

Google Analytics Tool का एक बहुत महत्वपूर्ण फायदा Customized Reports बनाने में है। इसकी सहायता से Google के इन-बिल्ट टूल का उपयोग करके, आप आसानी से कस्टम ड्रैग-एंड-ड्रॉप रिपोर्ट बना सकते हैं। इन Reports के बारे में हम ज्यादा जानकारी इस Article में बाद में जानेंगे।

इस टूल की सहायता से जो Data-driven Insights मिलते हैं उनमें Individual page traffic, Amount of leads converted और Visitors की Demographic information भी शामिल हैं। 

आपका Skill Level कुछ भी हो आर आपकी वेबसाइट में कैसे भी और कितने भी Customers आते हों, Google Analytics आपको अपने बिज़नस या ब्लॉग से संबन्धित महत्वपूर्ण Data-driven Insights दे सकता है। 

इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप एक Freelancer जिसने अपना ब्लॉग शुरू किया है या आप एक बड़ी वेबसाइट के या एक बड़ी कंपनी के मालिक हैं। Google Analytics की जानकारी से छोटा बड़ा कोई भी फायदा ले सकता है।

Google Analytics कैसे काम करता है?

Google Analytics आपकी वेबसाइट के पेजों पर एक JavaScript code ब्लॉक को जोड़ने के बाद काम करना शुरू करता है। जब कोई भी Visitor या आपकी वेबसाइट के उपयोगकर्ता कोई वेबपेज देखते हैं, तो यह JavaScript कोड एक JavaScript फ़ाइल का Reference देता है। 

इसी JavaScript फ़ाइल की सहायता से Google Analytics आपकी साइट पर Tracking का काम करता है। जब आपकी साइट के Audience या Users की जानकारी इकट्ठी हो जाती है, तो इसे सिंगल-पिक्सेल GIF Image अनुरोध से जुड़े पैरामीटर की लंबी List के रूप में Google Analytics Server पर भेज दिया जाता है।

इस GIF request में इकठ्ठा किया गया Data सीधे Google Analytics servers के पास जाता है जिसे Process करने के बाद अलग-अलग Reports में पेश किया जाता है। 

Google Analytics आपकी साइट से संबन्धित रिपोर्ट में जानकारी प्रदान करने के लिए जिस डेटा का इस्तेमाल करता है वो इन स्रोतों से प्राप्त होता है:

  • The HTTP request of the user
  • Browser/system information
  • First-party cookie

अब जब आप जान गये हैं कि यह कितना महत्वपूर्ण है। अब आइए जानें कि अपनी वेबसाइट के लिए Google Analytics कैसे सेट अप करें।

Google Analytics कैसे Set Up करें? How to set up Google Analytics (in simple steps)

Google Analytics इस्तेमाल करने से पहले आपको एक अकाउंट बनाना पड़ता है। इसके लिए आपके पास एक Registered Google Account Email Address और पासवर्ड होना जरूरी है। 

Google Analytics के दो तरह के Account GA4 (Google Analytics 4) और युनिवर्सल Analytics दोनों को सेट कर लेना चाहिए। 

Note- अगर आप Blogger या कोई गूगल Hosted site इस्तेमाल करते हैं तो आपको अपनी साइट को सेट अप करने की कोई आवश्यकता नहीं है। ये Automatically Google Analytics में Add हो जाती हैं। आप सीधे Reports का इस्तेमाल कर सकते है।  

Google Analytics को Set Up करने और अपनी वेबसाइट से जोड़ने के लिए तैयार इन आसान Steps का पालन करें:

1. अपना Google Analytics Account सेटअप करें और अपनी साइट जोड़ें

Google Analytics set up करने के लिए सबसे पहले अपने गूगल अकाउंट में लोग इन करें। यह अकाउंट वही होना चाहिए जिससे आप Analytics Manage करना चाहते हैं। एक Account में अधिकतम 50 Properties जोड़ सकते हैं।

पहिले आप Google Analytics open करे अगर आप नए हो तो आपके इसमें कुछ अलग इंटरफ़ेस दिखाई देगा। लेकिन प्रोसेस same है Admin >> Create Account.

Account creations

इसके अगले Step में आपको account name और उस Property का प्रकार चुनना होगा जिसे आप Measure चाहते हैं: उदाहरण के लिए वेबसाइट, ऐप या दोनों। अगर आप कोई ब्लॉग चलाते हैं तो वेबसाइट वाला Option सेलेक्ट करें। फिर Next पर Click करें।

Google analytics account setup

Google Analytics में अब आप अपनी साइट के बारे में कुछ विवरण Add कर सकते हैं:

वेबसाइट का नाम – यहाँ अपनी वेबसाइट का नाम टाइप करें।

वेबसाइट URL – ड्रॉपडाउन मेनू में सही से अपनी साइट का URL जोड़ें।

Industry Category सेलेक्ट करें– वह Category चुनें जो आपकी साइट का सबसे ज्यादा मेल खाता है।

Reporting Time Zone –अपने देश के उस Time Zone को चुने जिसमें आप रहते हैं। उदाहरण के लिए हिन्दी में ब्लॉगिंग करने वालों के लिए टाइम Zone GMT+5:30 होगा। (Time zone in India (GMT+5:30))

Currency details – इसमें आप अगर रुपये में डाटा देखना चाहते हैं तो Rupee पर क्लिक कर के सेलेक्ट कर लें। 

ऊपर दिये गए Options को भरने के बाद आपको Google Analytics में अकाउंट Set up करने के लिए Create बटन पर क्लिक करना होगा। 

Create पर क्लिक करते ही आपके सामने कुछ terms of service पर सहमत होने के लिए गूगल द्वारा कहा जाएगा। ये वो शर्ते हैं जिनके आधार पर आप Google Analytics इस्तेमाल कर सकते हैं। यदि आप ये Terms और Conditions नहीं Agree करेंगे तो आप Analytics टूल इस्तेमाल नहीं कर सकते। इन दोनों पर टिक करें और Agree बटन पर क्लिक करें। 

2. अपना Google Analytics ट्रैकिंग कोड Install करें

अपनी Property का Type चुनने के बाद “WEB” button पर क्लिक करें। इसके बाद आपकी साइट के लिए Stream Data बनाना होगा। 

Data stream

उसके बादआपके डाटा स्ट्रीम सेटअप करना होगा यह आपको वेबसाइट का यूआरएल और स्ट्रीम का नाम देना होगा और फिर Create stream पर क्लिक करे।

इसके बाद आपको इस तरह का स्क्रीन नजर आएगा यह से आपको Global Site Tag पर क्लिक करे आपको tracking code नजर आएगा।

Google Analytics की मदद से अपनी वेबसाइट को ट्रैक करने के लिए, यह कोड आपकी साइट के सभी वेब पेजों पर (</head> टैग बंद होने के पहिले) add करना होगा। यह Tracking कोड इंस्टॉल करना इस बात पर निर्भर करता है कि आपके पास किस प्रकार की साइट है। 

इसे इनस्टॉल करने के लिए आप WordPress Dashboard पर आये और Appearance >>Theme Editor पर क्लिक करे और यह से header.php पर क्लिक करे फिर उस कोड को <head > </head>  के अंदर डालें। 

3. अपने Google Analytics ट्रैकिंग कोड को Test करें

एक बार Google Analytics Code को अपनी वेबसाइट में Add कर देने के बाद यह चेक करना जरूरी होता है कि क्या सही में वो काम कर रहा है। 

Google Analytics Tracking Code को Test करना बहुत आसान काम है। सबसे पहले Google Analytics में Realtime पर क्लिक करें और फिर Overview पर जाएँ। इस Interface में आपकी साइट पर अभी वर्तमान में क्या हो रहा है दिखाई देगा। 

अगर आपने अभी अभी ट्रैकिंग कोड डाला है तो आपको उसका parameters २४hour में दिखाई देगा तुरंत नहीं दीखता है। 

Analytics overview.

अब आप अपने किसी दूसरे वेब ब्राउज़र से अपनी साइट पर जाएँ। इससे आपकी साइट पर 1 Active User दिखाई देगा। अगर आपकी साइट पर पहले से ही Active Users हैं तो उनकी संख्या दिखाई देगी। इससे आसानी से ये Confirm किया जा सकता है कि आपकी वेबसाइट पर कोई Tracking Code Active है कि नहीं।  

Google Analytics Mai Dimensions Ka Kya Matalab Hai 

Google Analytics में अपना अकाउंट Set-up करने के बाद उसकी Analytics Reports पढ़ने से पहले इस टूल के Dimensions और Metrics के बारे में जान लेना चाहिए। 

Google Analytics में हम जितनी भी रिपोर्ट देखते हैं वो सभी Dimensions और Metrics पर आधारित होती हैं:

  • Dimensions आपके डाटा के Elements होते हैं जिन्हे categorical variables भी कहा जा सकता है: 
Google analytics me dimension kya hai
  • Metrics उन Dimensions की गणना करने वाले Measurements या आंकड़े होते हैं। ये quantitative variables होते हैं जिन्हे नापा जा सकता है।

Dimensions के कुछ उदाहरण ये हैं:

  • Browser
  • Location
  • Landing page
  • Device
  • Customer type

Metrics के कुछ उदाहरण ये हैं:

  • Pageviews
  • Sessions
  • Conversions
  • Session duration
  • Bounce rate

जब हम Google Analytics Report देखते हैं तो उसमें Rows में जो Elements होते हैं वो Dimensions होते हैं जबकि Columns में जो आंकड़े दिखाई देते हैं वो Metrics के होते हैं। 

उदाहरण के लिए, यदि आप आपकी साइट पर आने वाले Visitors की Location के बारे में देखते हैं तो ये एक Dimensions है (the data element) लेकिन आपकी साइट पर कितने लोग आए ये एक Metrics (Measurement) है। 

आप चाहें तो GA (Google Analytics ) की सहायता से आप Analytics डेटा और गैर-Analytics डेटा को मिलाकर एक Custom Dimension और Metric बना सकते हैं। 

Google Analytics की सबसे महत्वपूर्ण Metrics ये हैं:

  1. Traffic – ट्रैफ़िक Metrics से हमें वेबसाइट पर आने वाले विज़िटर की संख्या का पता चलता है।
  2. Traffic Source -ट्रैफ़िक स्रोत का अर्थ है आपकी साइट पर आने वाले Visitors का स्त्रोत या Source। ये सीधे सर्च इंजिन से या social media से भी आ सकते हैं। कुछ Visitors किसी Reference साइट से भी आते हैं। 
  3. Sessions – का अर्थ है आपकी साइट पर किसी Time Frame में User द्वारा बिताया गया समय
  4. Average Time Spentकोई व्यक्ति आपकी साइट पर कितना समय व्यतीत करता है यह औसत समय कहा जाता है।
  5. Average Pages Per Visit –इसका अर्थ है किसी User द्वारा देखे जाने वाले पृष्ठों की औसत संख्या। मतलब कि कोई व्यक्ति आपकी साइट पर आता है तो आपकी वेबसाइट के कितने पेज देखता है। 
  6. Top Pages – आपकी साइट के सबसे लोकप्रिय वेबपेज 
  7. Exit Pages – ये ऐसे पेज होते हैं जहां पहुँचकर ज्यादातर लोग आपकी साइट से चले जाते हैं।
  8. Location – इसका अर्थ है वो जगह या स्थान जहां से उपयोगकर्ता आपकी साइट ब्राउज़ कर रहे हैं।
  9. Age –आपके Users की उम्र कितनी है यानि आयु वर्ग।
  10. Total Revenueइसका मतलब है आपकी साइट पर खरीद, सदस्यता और विज्ञापन से होने वाली कमाई। 
  11. Site Speed- साइट स्पीड से हम किसी वेबसाइट की लोडिंग स्पीड को नापते हैं। यह Metrics दर्शाती है कि आपकी साइट कितनी तेज़ है। 

अब आप Google एनालिटिक्स की Metrics और Dimensions के बारे में समझ गए होंगे और ये भी जान गए होंगे कि Analytics की Metrics से क्या पता चलता है। आइए अब GA की Reports के बारे में जान लें और ये भी समझ लें कि उन Reports को कैसे पढ़ा जाता है। 

Google Analytics रिपोर्ट का उपयोग कैसे करें? How to Use Google Analytics Reports

जब आप पहली बार Google Analytics में लॉग इन करते हैं, तो आपको इसके dashboard में बाई ओर कुछ लिंक्स दिखाई देंगे। ये Analytics की reports के लिंक होते हैं। इन पर क्लिक करने से आपको अपनी साइट की संबन्धित रिपोर्ट खुल कर सामने दिख जाती है। 

How to use google analytics reports.

Google Analytics Reports इन Sections में होती है। 

  1. Reports Snapshot
  2. Realtime
  3. Lifecycle
  • Acquisition 
  • Engagement
  • Monetization
  • Retention
  1. User
  • Demographics
  • Tech
1. Reports Snapshot

Reports snapshot में आपकी साइट के सभी डाटा और Insights के बारे में एक Overview मिलता है। इसमें आपके Visitors की संख्या, वे कहाँ से आ रहे हैं और आपकी साइट में कितना समय दे रहे हैं। इसकी पूरी जानकारी मिलती है। 

इसके अलावा आप यह भी देख सकते हैं कि पिछले 30 मिनट में कितने Users आपकी साइट पर आ रहे हैं। आपकी साइट पर आने वाले Users की Location भी इसमें जानी जा सकती है। Location में आप Map के माध्यम से User by Country भी देख सकते हैं। 

कुल मिलाकर इस Section में सभी Reports का Snapshot दिख जाता है। 

2. Realtime Report

Google Analytics में रीयलटाइम रिपोर्ट आपको दिखाती है कि आपकी साइट पर अभी वर्तमान में क्या हो रहा है। 

Realtime report.

इस Realtime Report में आप देख सकते हैं कि कितने लोग आपकी साइट देख रहे हैं, और वे किन वेबपेजों को देख रहे हैं। यह भी पता चलता है कि वे दुनिया में कहां स्थित हैं। इसके साथ और भी कई बेहतरीन और महत्वपूर्ण जानकारियाँ इस रिपोर्ट में मिलती हैं। 

यह रिपोर्ट अपनी साइट के Users के बारे में जानने का बेहतरीन जरिया है। सबसे बड़ी बात यह है कि यह सभी जानकारी एकदम फ्री है। 

Realtime report से आप चेक कर सकते हैं कि किसी Social मीडिया पोस्ट या ब्लॉग पोस्ट से आपको कितना ट्रैफ़िक मिल रहा है। 

उदाहरण के लिए अगर आप कुछ बेचते हैं और One day sale चलाई है तो आसानी से चेक कर सकते हैं कि उससे कोई views या conversions में फायदा मिला है कि नहीं। 

3. Lifecycle Report

Lifecycle Report अपने आप में कोई रिपोर्ट नहीं है बल्कि इसमें चार Reports Acquisition, Engagement Monetization और Retention शामिल हैं। 

इन reports के माध्यम से आप पता लगा सकते हैं कि आपकी साइट का traffic कहाँ से आ रहा है। जैसे कि 

  • Organic
  • Direct 
  • Referral
  • Email 
  • Social
  • Paid Search
  • Display 
  • Affiliate

Analytics की Acquisition रिपोर्ट बहुत महत्वपूर्ण है और विशिष्ट मार्केटिंग अभियानों का ROI निर्धारित करने में आपकी मदद कर सकती है।

Lifecycle report
4.  Users

Users Report में दो Sections होते हैं- Demographics और Tech जो आपकी साइट के डाटा का इस्तेमाल कर के ये आंकड़े पेश करते हैं। 

  1. Demographics रिपोर्ट में आपकी साइट के Users किस Location या देश से आ रहे हैं यह पता चलता है। आप चाहें तो Users को City, Gender, या Interests के आधार पर sort out कर सकते हैं। तीनों के लिए अलग-अलग Chart इसमें मौजूद होते हैं। 
Google analytics kya hai. User in analytics.

Demographics रिपोर्ट का एक अन्य महत्वपूर्ण उपयोग है अपने Users की उम्र या AGE पता करने में। आप इसके Charts की सहायता से चेक कर सकते हैं कि आपके Visitors या Users का Age Group क्या है। 

Overview

इसके अलावा आप Language के अनुसार Users Data भी देख सकते हैं। 

  1. Tech – इस रिपोर्ट में आपकी साइट पर आने वाले Users के Platform के बारे में पता चलता है। ये रिपोर्ट बताती है कि आपकी साइट के Visitors किस Operating system का इस्तेमाल करते हैं। इसके अलावा इस report में कई चार्ट होते हैं जो Users के Browser और Device Category के बारे में जानकारी देते हैं। 
Tech overview report

इस रिपोर्ट में कई Detailed Information जैसे कि Screen Resolution और App Version की जानकारी भी मिलती है। इसमें Users by Browser over time भी चेक किया जा सकता है। 

Google Analytics में Goal क्या है? What Is a Goal in Google Analytics?

जब किसी बिज़नस या वेबसाइट में कोई Visitor कोई Action लेता है या किसी प्रकार से आपकी साइट पर मिलने वाली सर्विस से जुड़ता है तो वो एक Conversion माना जाता है। हालांकि अलग-अलग वेबसाइट के लिए सफलता या Conversion के अलग-अलग मायने हो सकते हैं। 

इसलिए हमें Google को यह बताना पड़ता है कि हमारा लक्ष्य क्या है। हमारे लिए क्या Goal है। Goals का यहाँ मतलब specific events है। Google Analytics का अधिकतम लाभ उठाने के लिए आपको कुछ लक्ष्य निर्धारित करने होते हैं जिन्हे Goals कहा जाता है। 

Google Analytics में साइट के Goals ट्रैक करने से आपको अपनी साइट और अपने मार्केटिंग प्रयासों दोनों की प्रभावशीलता को ट्रैक करने में सहायता मिलती है।

Google Analytics में पाँच मुख्य प्रकार के Goals होते हैं:

  1. Destination goals
  2. Duration goals
  3. Pages/Session goals
  4. Event goals
  5. Smart Goals

उदाहरण के लिए Destination Goals तब पूरे माने जाते हैं जब कोई Users किसी पहले से सोचे गए वेबपेज पर पहुंचता है। इसमें सबसे Common हैं “thank you” page पर जब Users पहुँचते हैं। इसे Goal की प्राप्ति माना जाता है। 

इसी तरह Duration Goals तब Complete माने जाते हैं जब कोई User किसी निश्चित समय तक आपकी साइट पर मौजूद रहता है। Events Goals कई तरह के हो सकते हैं जैसे कि Users द्वारा आपकी साइट पर किसी लिंक को क्लिक करना। 

Google Analytics में Goal कैसे सेट करें? How to set up goals in Google Analytics?

  1. Goals Set-up करने के लिए Google Analytics के Admin Section में जाएँ। 
  2. Admin Section में Goals पर जाएँ। नयी Screen पर New Goal सेलेक्ट करें। सामने दिखाई देने वाले Options में से अपने Goal के सबसे ज्यादा Appropriate description को चुनें। 
  3. अगर दिये गए विकल्पों में से आपको कोई सही नहीं लग रहा तो तो “Custom” select कर लें। 
  4. अगले स्टेप में आपको अपने Goal को कोई नाम देना होगा। इसे कुछ हद तक Descriptive रखें। 
  5. अगर आप Destination Goal बना रहे हैं तो Goal Detail Section में अपने Thank You Page का वेब Address टाइप कर दें। यहाँ आपको पूरा URL नहीं डालना है। सिर्फ अपनी साइट के पेज का वेब एड्रैस जैसे कि “/thank-you” टाइप कर दें। 

अगर आप नए ब्लॉगर हैं तो destination goal से शुरू करें और अपने  “thank you” page visits को Track करना शुरू कर सकते हैं। Goals के रूप में Thank You Pages का उपयोग आपकी साइट पर कोई फॉर्म भरने के बाद, खरीदारी करने के बाद, कोई Document डाउनलोड होने के बाद, या इस तरह की किसी भी चीज़ के बाद किया जा सकता है।

अब आप Google Analytics की सहायता से डेटा ट्रैक करना जान गए हैं। एक बार अपनी Property (वेबसाइट) Google Analytics में Add करने के बाद शुरू में reports आने में कुछ घंटों का समय लगता है। लेकिन एक बार reports बन जाने के बाद आप आसानी से अपनी साइट के डाटा और Insights ले सकते हैं। ये reports अपडेट होती रहती हैं। 

Frequently Asked Questions (FAQs)

  1. Google Analytics क्या काम करता है?

    Google Analytics Tool किसी भी वेबसाइट पर आने वाले Visitors के बारे में जानकारी देता है। इसकी Reports से हमें पता चलता है कि हमारी साइट के Audience किस तरह से हमारे Blog के साथ Interact या Behave करते हैं।

  2. Google Analytics की कीमत कितनी है? क्या ये फ्री है?

    Google Analytics एकदम फ्री है। इसे इस्तेमाल करने के लिए कोई फीस या चार्ज नहीं देना होता है। हालांकि Google Analytics 360 नाम का एक Enterprise Version भी है जिसके लिए आपको प्रति वर्ष एक फीस देनी पड़ती है। लेकिन चिंता की बात नहीं है। इसका Free Version ही अधिकतर लोगों के लिए पर्याप्त से ज्यादा है। 

  3. गूगल एनालिटिक्स कैसे काम करता है?

    Google Analytics आपकी वेबसाइट के पेजों में JavaScript कोड जोड़कर काम करता है। जब कोई विज़िटर आपकी वेबसाइट पर आता है, तो यह JavaScript कोड एक JavaScript फ़ाइल को Reference करता है जिसे गूगल द्वारा Analytics के लिए ट्रैक किया जाता है। 

  4. Google Analytics को अपडेट होने में कितना समय लगता है?

    Google के अनुसार, Google Analytics 24-48 घंटे में आपकी साइट का Updated डाटा (statistics latency) पेश कर देता है। हालाँकि, Google अलग से यह नहीं बताता है कि आपके Analytics Account से जुड़ी सभी जानकारी को अपडेट करने में कितना समय लगता है।

  5. Google Analytics Property Tracking ID क्या है?

    आपके साइट या Property से जुड़े Identifier को Property Tracking ID कहा जाता है जिसका इस्तेमाल Google Analytics द्वारा आपकी वेबसाइट का डेटा एकत्र करने के लिए किया जाता है। Google Analytics Property Tracking ID आपके Analytics अकाउंट में Admin panel में ‘Tracking code’ पर क्लिक करने से मिल जाता है। 

Conclusion:

Google Analytics Kya Hai ये आपने अब जान लिया होगा। एक powerful tool है जो आपको वेबसाइट को Grow करने के लिए Data और Insights देता है। इसे अन्य Google Tools के साथ Integrate कर देने से हम अपने बिज़नस या ब्लॉग को नयी ऊंचाइयों तक ले जा सकते हैं। 

यह किसी भी डिजिटल मार्केटर के लिए बहुत महत्वपूर्ण है जो आपके सभी digital marketing campaigns के साथ-साथ आपकी वेबसाइट के प्रदर्शन को ट्रैक करने में आपकी सहायता करता है। अगर आप सही में अपनी साइट के Performance के प्रति Serious हैं तो Google Analytics को जरूरु इस्तेमाल करें। 

RISHABH KOLHE

मैं इस ब्लॉग का संस्थापक हूं, मैंने 2017 में अपनी डिजिटल मार्केटिंग यात्रा शुरू की थी। पहले, मैंने अपने करियर की शुरुआत Culturelligence में SEO से की, फिर कुछ समय बाद, मैंने डिजिटल मार्केटिंग के बारे में और सीखा। मैंने एक US -आधारित मानव संसाधन संगठन, Agile PeopleOps के साथ एक डिजिटल मार्केटर के रूप में काम किया। अब मैं WealthyWork में काम कर रहा हूं, हम सभी डिजिटल मार्केटिंग सेवाओं में विशेषज्ञता रखते हैं।
View All Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.