WordPress में SEO Friendly Blog Post कैसे लिखें in Hindi

ब्लॉग लिखने वाला हर व्यक्ति यह चाहता है कि उसका Blog Post गूगल Search Engine Ranking में टॉप पर आए। लेकिन SERPs में High Rank के लिए आपको SEO Friendly Blog Post लिखने होंगे जिससे आप Competitors से आगे निकल जायें।

दुनिया की आधे से ज्यादा वेबसाइट WordPress का इस्तेमाल करती हैं। ऐसे में साइट का WordPress में SEO करना महुत महत्वपूर्ण हो जाता है।  

Search engines और users दोनों के लिए SEO Friendly Blog Post लिखना एक Skill है जिसे Practice से सुधारा जा सकता है। इस पोस्ट में आप समझेंगे कि अपने ब्लॉग पोस्ट को SEO ऑप्टिमाइज़ करने के लिए कैसे लिखा जाता है। 

हम ये भी जानेंगें कि WordPress SEO को बेहतर बनाने और अधिक ऑर्गेनिक ट्रैफ़िक प्राप्त करने में किन WordPress SEO टिप्स का इस्तेमाल करना है। 

अगर आप SEO के बारे में डीटेल में जानना चाहते हैं तो ये पढ़ें “SEO Kya Hai

SEO Friendly Blog Post कैसे लिखें in Hindi

1. ब्लॉग पोस्ट लिखने से पहले Planning और Research करें

किसी भी काम को करने से पहले Planning और रिसर्च कर लेने से हमारा बहुत सा समय बच जाता है। Blog Post लिखने से पहले अगर आप अच्छे से प्लानिंग कर लेंगे तो आपको ये निर्धारित करने में बहुत आसानी हो जाएगी कि आप अपने ब्लॉग पोस्ट से क्या संदेश देना चाहते हैं। 

प्लानिंग से आप अपने Audience को फोकस कर के लिख सकते हैं और जान सकते हैं कि ब्लॉग पोस्ट किन लोगों के लिए टार्गेट करना है। 

ब्लॉग पोस्ट लिखने से पहले प्लानिंग करते समय अपने आप से यह प्रश्न पूछना चाहिए कि आप अपने Readers से क्या कहना चाहते हैं? इस ब्लॉग पोस्ट से आप किस टॉपिक को कवर करना चाहते हैं और किस प्रश्न का उत्तर देना चाहते हैं? आपके Article का उद्देश्य क्या है? 

ब्लॉग पोस्ट या आर्टिकल लिखते समय पहले से ही रिसर्च कर लेनी चाहिए कि जिस टॉपिक या विषय पर आर्टिकल लिखने जा रहे हैं उस बारे में जब कोई user सर्च करता है तो उसका Search Intent क्या होता है। 

बिना रिसर्च या प्लानिंग के ब्लॉग पोस्ट लिखना अंधेरे में तीर चलाने जैसा है। क्योंकि आप नहीं जानते कि किन विषयों को टार्गेट करना है और किन Audience पर फोकस करना है। बिना रिसर्च के लिखा गया ब्लॉग पोस्ट सिर्फ Guess पर आधारित होता है। 

आप अगर सही में अपने Audience, Clients, Customers, या Users को अपने ब्लॉग पोस्ट से फायदा पहुंचाना चाहते हैं और चाहते हैं कि लोगों द्वारा आपका आर्टिकल पसंद किया जाए तो कभी भी बिना रिसर्च और प्लानिंग के कोई भी आर्टिकल ना लिखें। 

ब्लॉग पोस्ट लिखने से पहले ऐसे प्लानिंग करें (Tips for Planning & Research Before You Write an Article):

  • जिस टॉपिक पर ब्लॉग पोस्ट लिखना चाहते हैं उसके बारे में सोचें और उसे Points में नोट कर लें।
  • उस विषय पर इंटरनेट पर पहले से पब्लिश हुए Articles को पढ़ें और मुख्य बिन्दुओं को नोट कर लें।
  • आप अगले एक महीने में पब्लिश करने वाले Articles की Publishing Date निश्चित करें और Content Calendar में लिख लें।
  • पहले से लिख लें कि ब्लॉग पोस्ट में किन विषयों को शामिल करना है।
  • अपने ब्लॉग पोस्ट के उद्देश्य को हमेशा ध्यान में रखें।
  • पहले से निर्धारित करें कि आपके ब्लॉग पोस्ट से Readers को कैसे फायदा होगा। 

ऊपर दिये गए प्रश्नों के जवाब निर्धारित कर लें। ब्लॉग पोस्ट लिखने से पहले रिसर्च और प्लानिंग का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है सर्च रिजल्ट्स में उन वेबसाइट या लिंक्स को देखना जिन Search Terms पर आप Rank करना चाहते हैं। ये Competitor Analysis का हिस्सा हैं जो हम इस आर्टिकल में आगे Discuss करेंगें।

2. Keyword Research करें

वैसे तो कीवर्ड रिसर्च प्लानिंग का ही हिस्सा है लेकिन ये इतना महत्वपूर्ण है कि इसे अलग से समझना जरूरी है। बिना कीवर्ड रिसर्च के आप ये नहीं समझ सकते कि किन टोपिक्स पर ज्यादा ट्रेफिक मिल रहा है और किन टोपिक्स को टार्गेट करना है। 

Keyword Research से अपने Content में उन शब्दों और Words को टार्गेट करें जो आपके Title से संबन्धित हों। इन्हे अपने ब्लॉग पोस्ट में कुछ ऐसे शामिल करें कि ये Artificially जोड़े गए ना लगें। ये आपकी पोस्ट में स्वाभाविक रूप से मिले हुए से लगने चाहिए। 

Related Keywords का भी Use करना चाहिए। जब आप Keyword Research से आसानी से पता कर सकते हैं कि Users क्या पढ़ना चाहते हैं या उन्हे किन सवालों के जवाब चाहिए, तो सिर्फ Guess कार के आर्टिकल क्यों लिखे जाएँ। 

अपनी Content Strategy प्लान करने के लिए Keyword Research का इस्तेमाल करना चाहिए। ये नए Blog Post Ideas और SEO के लिए बहुत फायदेमंद है। 

कीवर्ड रिसर्च के लिए आप Keyword Research Tools इस्तेमाल कर सकते हैं। SEMRUSH, Google Search Console, Google Keyword Planner और Ahrefs के Keyword Research Tools का सहारा लिया जा सकता है। ये वेबसाइट के आर्टिकल के On-page SEO, गूगल सर्च रैंकिंग्स सुधारने और User Engagement में फायदा करता है।  

इन कीवर्ड टूल्स से मिलने वाले Keyword Suggestions को अपने Primary Keyword के साथ-साथ आर्टिकल में इस्तेमाल करना चाहिए। 

कीवर्ड रिसर्च से जितना फायदा होता है उतना ही नुकसान Keyword Stuffing से हो सकता है। Keyword Stuffing के द्वारा ज़बरदस्ती और जानबूझकर Keywords को ब्लॉग पोस्ट में नहीं भरना चाहिए। सर्च इंजन आसानी से इसका पता लगा लेते हैं और ऐसे Content को सर्च रैंकिंग्स में नुकसान होता है।  

अपने Keyword को ब्लॉग पोस्ट के Title, Main Headings, Content के बीच-बीच में और अपने पोस्ट के निष्कर्ष में जोड़ें। अगर आप FAQ भी शामिल करते हैं तो उनमें भी आपके Keywords जरूर रहने चाहिए। 

कीवर्ड रिसर्च के बारे में ज्यादा जानने के लिए Keyword Research kaise Kare पढ़ सकते हैं। 

3. ब्लॉग पोस्ट का Structure तैयार करें

जैसे निबंध लिखते उसके अलग-अलग भागों पर फोकस किया जाता है वैसे ही ब्लॉग पोस्ट के कई भाग होते हैं। ब्लॉग पोस्ट के Structure को पहले ही सोच लेना चाहिए कि हमें उसके Introduction, Body और Conclusion में क्या लिखना है और उसमें किन Points को शामिल करना है। 

ब्लॉग पोस्ट को अलग-अलग Sections में बाँट देना चाहिए ताकि आर्टिकल का एक Clear Structure तैयार हो सके। content को अगर अलग-अलग Sections में पेश करना WordPress में SEO Friendly Blog Post लिखने का एक जरूरी भाग माना जाता है। 

Introduction, body और Conclusion में क्या लिखना है पहले ही निश्चित कर लेने से ब्लॉग पोस्ट की Summary हमारे समाने आ जाती है। 

ब्लॉग पोस्ट में बड़े-बड़े Paragraphs लेखाने के बदले आप 200-300 शब्द के अलग-अलग Sections में अपनी बात कह सकते हैं। अलग-अलग Sections में blog post Divide कर देने से आपका Article WordPress SEO Friendly बन जाता है।  

4. ब्लॉग पोस्ट का Title और URL SEO Friendly बनाएँ

एक अच्छे और interesting title के बिना आपके ब्लॉग पोस्ट की अलग पहचान नहीं बनती। अगर आपका Title और URL समझदारी से चुना गया है तो ये SEO और user-friendliness बढ़ाने में मदद करता है। 

आपके ब्लॉग पोस्ट का शीर्षक (जिसे Title कहते हैं) गूगल की सर्च रैंकिंग के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। जब हम कोई blog post title अच्छा बनाते हैं जो SEO Optimized होता है तो वो search query के लिए Relevant बन जाता है। 

ब्लॉग पोस्ट टाइटल में Long tail keywords का इस्तेमाल कर सकते हैं। 

Blog post title SEO friendly hona chaiye.

अपने टाइटल और URL को SEO Friendly बनाने के लिए इन बातों का ध्यान रखें:

  • Title की Character limit 55-60 तक रखें। गूगल SERP में Title अगर 55-60 Characters से ज्यादा होता है तो गूगल उसे ब्रेक कर के दिखाता है। इससे Users को Title समझने में परेशानी हो सकती है। निर्धारित Character से ज्यादा बड़ा Title ना रखें। अगर आपका Title 72 Characters से ज्यादा हो जाता है तो SERPs में Users को लास्ट वाले शब्द नहीं दिखेंगे। 
  • अपने ब्लॉग पोस्ट के Title में Target कीवर्ड जरूर शामिल करें। 
  • आपके Title या URL से आपके content के बारे में साफ-साफ पता चल जाना चाहिए कि आपका ब्लॉग पोस्ट किस बारे में है।
  • अपने Title को इतना Interesting बनाएँ कि जब वो SERPs में दिखे तो Users उसपर Click करें। Title में Free, Incredible, Awesome, Unbelievable, Best, Top जैसे शब्दों को शामिल करें। how-to articles, top lists, और case studies के ब्लॉग पोस्ट भी लोगों द्वारा बहुत पसंद किए जाते हैं। 
  • URL की लंबाई को 60 Character के अंदर रखें। URL को लंबा ना होने दें बल्कि छोटा URL ज्यादा प्रभावशाली होता है। ये याद रखने में भी आसान होता है।
  • अपने URL में शब्दों को अलग करने के लिए “-” का प्रयोग करें। URL में सभी Words को bold में उपयोग ना करें। 

गूगल में जो Headline दिखाई देती है उसके लिए HTML title tag जिम्मेदार होता है। ये आपके Click through rate को भी प्रभावित करता है। इसलिए अपने ब्लॉग पोस्ट के Title और URL लिखते समय सोच समझकर काम करना चाहिए।   

अपने URL में सिर्फ नंबर या Underscore जैसे non-SEO friendly URL नहीं बनाना चाहिए। उदाहरण के लिए ये एक non-SEO friendly URL का Example है:

https://www.example.com/?p=10467

ऊपर दी गई URL से कोई भी ये समझ नहीं सकता है कि इस ब्लॉग पोस्ट में क्या होगा। Users ऐसे URL को देखकर Guess नहीं कर सकते कि इस लिंक पर क्लिक कर के जो वेबपेज खुलेगा, उसमें क्या Content होगा। 

इसलिए WordPress में SEO friendly permalink structure का उपयोग कर के अपने URL को SEO Friendly बनाएँ जिससे सर्च रिजल्ट्स में High Rankings मिल सके। 

आइए देखते हैं कि अपनी WordPress साइट की Permalink Structure को कैसे चेक और अपडेट कर सकते हैं। WordPress आपको Custom URL Structure बनाने का Option देता है। 

सबसे पहले अपनी WordPress CMS के Settings Menu में जाएँ। फिर Permalinks पर जाएँ। permalinks में Post name को Select करें। 

Settings » Permalink page » Post name

पोस्ट Name में जो भी Custom URL आप बनाना चाहें टाइप कर सकते हैं। फिर “Save Changes” कर के अपनी Settings को Save कर दें। 

Permalink settings for seo friendly blog post

क्या Permalink को बदल सकते हैं? अगर आपकी वेबसाइट 6 महीने से अधिक समय से चल रही है, तो अपनी ब्लॉग पोस्ट के परमालिंक Structure को तभी बदले जब आप उसमें सिर्फ अंकों (Numbers) का इस्तेमाल कर रहे हों।

ऐसा इसलिए है क्योंकि किसी established साइट के ब्लॉग पोस्ट के Permalink को Change करने से आपकी SEO ranking और social media share count पर बुरा असर पड़ता है। आपकी साइट के Visitors भी कम होने का डर रहता है। Permalink बदलते समय Proper Redirects का इस्तेमाल कर लेना चाहिए।  

वैसे तो WordPress CMS आपके ब्लॉग पोस्ट के Title के आधार पर उसका URL auto-generate कर लेता है लेकिन आप Manually Permalink Change कर के उसमें से Unnecessary Words को हटा सकते हैं। 

5. Meta Description लिखें और Optimize करें

ब्लॉग पोस्ट का Meta description एक HTML meta tag होता है जिसका उद्देश्य सर्च इंजन और क्रॉलर को आपके Article का संक्षिप्त विवरण बताना होता है।

सर्च रिजल्ट्स में Title या Headlines के नीचे दिखने वाला विवरण Meta Description होता है। Meta Description से पता चलता है कि आपका पोस्ट किस विषय के बारे में है और उसमें कैसा Content है। 

Meta description settings.

Meta Description में कम शब्दों में पूरे ब्लॉग पोस्ट के बारे में संक्षिप्त जानकारी दे दी जाती है। 

  • Meta Description 150 से 160 characters के बीच रखें: मेटा description जो बहुत छोटे होते हैं उन्हें पूरी तरह से गूगल अनदेखा कर सकता है। ऐसे में आपके आर्टिकल के Meta Description के बदले Google द्वारा आपकी वेबसाइट के दूसरे Content को सर्च रिजल्ट्स में दिखाया जा सकता है। इसी तरह बहुत लंबे मेटा description खोज परिणामों में पूरी तरह से नहीं दिखाई देते। ज्यादा लंबे Meta Description को सर्च रिजल्ट्स में काट दिया जाता है।
  • Meta Description में Keywords Add करें: अपने फोकस Keyword को Meta Description में लिखना SEO Friendly Blog Post लिखने में मदद करता है। Focus Keyword को Meta Description के शुरू में ही जगह दें ना कि अंतिम में। 

कुछ SEO Experts का मानना है कि Meta Description अब Irrelevant हो चुके हैं जिनसे सर्च रैंकिंग्स में कोई फायदा नहीं होता। लेकिन हम SEO Gains के Experts आपको सलाह देते हैं कि Meta Description सभी ब्लॉग पोस्ट के लिए Add करें। 

गूगल औए Microsoft Bing जैसे सर्च इंजन के साथ-साथ Social Media के Platforms भी आपके पोस्ट के Meta Description को show करते हैं। Meta description की Character limit 155 होती है।

6. Paragraphs और Headings का उपयोग सही करें

ब्लॉग पोस्ट में Headings और Paragraphs को Optimize करना SEO Friendly Blog Post लिखने का का एक और महत्वपूर्ण पहलू है। WordPress की किसी भी SEO-Optimized theme में, Blog Post का Title H1 Title टैग का उपयोग करता है।

इसके बाद अगली Subheading H2 और उसके बाद H3 Heading मनी जाती है। यदि आपका CMS या ब्लॉग प्लेटफ़ॉर्म अपने आप ब्लॉग Title को H1 Heading नहीं बनाता है, तो उसे खुद ही बनायें। 

ब्लॉग पोस्ट की H1 Heading बनाते समय ध्यान दें कि किसी भी ब्लॉग पोस्ट के लिए सिर्फ एक ही H1 Heading होती है। एक से ज्यादा नहीं। इसके साथ ही उसमें वह main keyword जरूर होना चाहिए जिसके लिए आप अपने Content को Optimize कर रहे हैं। 

आपके ब्लॉग पोस्ट का title tag और H1 title एक ही हो तो सही है। WordPress ब्लॉग पोस्ट के title tag और H1 title को Identical ही रखता है। लेकिन आप चाहें तो Yoast SEO कि सहायता से दोनों को अलग-अलग भी रख सकते हैं। 

Proper Headings ना सिर्फ Readability के लिए बल्कि आपकी साइट के SEO purposes में भी काम आती हैं। Headings में Keywords शामिल करने और उन्हे समझदारी से चुनने से Google सर्च इंजन को आपके ब्लॉग पोस्ट के मुख्य विषयों को समझने में और रैंकिंग में फायदा होता है। 

लेकिन इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि ब्लॉग पोस्ट की सभी Headings में Keywords Add करना जरूरी नहीं है। आप Keywords ऐसे Add करे मानो वो Naturally आ गए हों। आपका Text या Headings unnatural नहीं लगानी चाहिए। 

जब हम ब्लॉग पोस्ट पब्लिश करते हैं तो अक्सर अपने Paragraphs पर ध्यान देना भूल जाते हैं। लेकिन Paragraphs की लंबाई आपके Article की Readability बिगाड़ सकती है। 

अब ज़्यादातर Traffic मोबाइल डिवाइस से आ रहा है। इसलिए हमेशा छोटे और कम शब्दों वाले Paragraphs लिखें ताकि आपके Users को पढ़ना आसान हो। Bullet Points भी Use करें। 

अपने Paragraphs को 2-3 वाक्यों तक सीमित रखें और उनमें  bold, italic, underline जैसे Formatting का इस्तेमाल करें। इससे आपका ब्लॉग पोस्ट पढ़ने में Interesting होगा और Readers को Boring feel नहीं होगा।  

7. Blog Post की लंबाई पर ध्यान दें 

WordPress में ब्लॉग पोस्ट की SEO Optimization करते समय ध्यान रखें कि आपके ब्लॉग पोस्ट में कम से कम 300 शब्द हों। रिसर्च से पता चलता है कि लंबे ब्लॉग पोस्ट सर्च रिजल्ट्स में बेहतर प्रदर्शन करते हैं। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि छोटे ब्लॉग पोस्ट टॉप रैंक नहीं कर सकते। 

बस ध्यान रखना चाहिए कि यदि आपका Article बहुत लंबा है और पढ़ने में आसान नहीं है, तो यह Users को Tension दे सकता है। आपके Content की Quality आपके ब्लॉग पोस्ट के Words की Quantity से ज्यादा महत्वपूर्ण है। 

2000 शब्दों से ज्यादा लंबा Post लिखने का प्रयास केवल तभी करें जब आप जानते हों कि आप एक कुशल लेखक हैं और High Quality Content लिख सकते हैं।

Google के सर्च इंजन लंबे और Detailed ब्लॉग पोस्ट पसंद करते हैं और उन्हे सर्च रिजल्ट्स में Preference भी देते हैं लेकिन अगर वो पढ़ने में आसान नहीं हुए तो Users आपकी साइट से लौट जाएंगे और Bounce Rate बढ़ जाएगा। 

WordPress में SEO Friendly Blog Post लिखने का मतलब ना तो बहुत लंबे ब्लॉग पोस्ट और ना ही बहुत छोटे ब्लॉग पोस्ट लिखना है। एक Balanced length का Article होना चाहिए जिसमें टार्गेट किए गए Topic के बारे में सभी जानकारी शामिल हो। 

अनावश्यक और फालतू के शब्दों से अपने आर्टिकल को बड़ा करने की कोशिश ना करें। अपने पूरे ब्लॉग पोस्ट के Text में Focus Keyword का इस्तेमाल करें। 

2100 से 2450 शब्दों के बीच का ब्लॉग पोस्ट बेहतरीन माना जाता है बशर्ते कि वह High Quality का होना चाहिए। इससे ज्यादा लंबे पोस्ट भी लिख सकते हैं लेकिन Content Quality अच्छी बनी रहनी चाहिए। 

8. अपनी साइट के दूसरे पोस्ट से Link करें (Internal Linking)

लिंक्स से आपकी साइट या ब्लॉग पोस्ट की Authority और Credibility बढ़ती है। गूगल और Bing जैसे सर्च इंजन  आपकी वेबसाइट के सभी वेबपेज को एक Score प्रदान करते हैं। इसे Page Authority कहा जाता है। 

Internal Linking तब होती है जब आप अपनी एक पोस्ट को दूसरे पोस्ट से जोड़ने वाला लिंक डालते हैं। जबकि Backlinks (बैकलिंक्स) हमें दूसरों की साइट से मिलता है। 

लेकिन ये Page अथॉरिटी या Score कैसे बनाता या बिगड़ता है ये Google सर्च इंजन Secret रखे हुए है ताकि सर्च रैंकिंग्स के साथ कोई फेरबदल ना कर सके। हालांकि SEO Experts का मानना है कि Links Page Authority के सबसे महत्वपूर्ण Signals में से एक हैं। 

इसलिए ये जरूरी है कि आप अपने दूसरे blog posts और pages से अपने Content को लिंक करें। जहां तक संभव हो ये आदत डाल लें कि आपको सभी पोस्ट को इंटरलिंक करना है। 

ब्लॉग पोस्ट की Interlinking से ना सिर्फ आपके ब्लॉग के pageviews बढ़ेंगे बल्कि आपकी साइट के Users ज्यादा समय तक आपकी साइट पर समय बिताएँगे। इससे आपकी साइट के Individual Blog Posts और Pages का SEO score भी बढ़ेगा। 

Interlinking के माध्यम से जब आप अपने पुराने ब्लॉग पोस्ट को नए पब्लिश किए गए ब्लॉग पोस्ट से जोड़ देते हैं तो सर्च Engines उन Old Posts को Re-crawl करते हैं। ये आपकी साइट के Navigation को भी बेहतर बनाता है जिससे Bounce Rate को घटाने में मदद मिलती है। Bounce Rate एक important SEO Factor है। 

Link करते समय (जिस पोस्ट से लिंक करना है) Post Title में Main Keywords का इस्तेमाल करें। हालांकि internal links एक बेहतरीन SEO Factor माने जाते हैं लेकिन उनका जरूरत से ज्यादा इस्तेमाल एक ही ब्लॉग पोस्ट में नहीं करना चाहिए। 

दूसरी ओर Backlinks की संख्या जितनी ज्यादा होगी उतना ही अच्छा माना जाता है। लिंक तभी शामिल करें जब वे Relevant हों और देखने में नैचुरल लगें।

9. High Authority वेबसाइट से लिंक करें

WordPress में अपने Blog Post को SEO Friendly बनाने के लिए Internal Linking जितनी जरूरी है उतना ही जरूरी अपनी साइट के Pages को दूसरी High Authority वेबसाइट के लिंक करना है। 

High Authority या प्रतिष्ठित वेबसाइटों से लिंक करना न केवल आपकी साइट के Readers को ज्यादा जानकारी पढ़ने को देता है, बल्कि यह सर्च इंजनों को भी दिखाता है कि आपने अपना ब्लॉग पोस्ट लिखने से पहले अच्छी रिसर्च की है।

इससे Readers का Trust जीतने में भी सहायता मिलती है। External Linking SEO Best Practices का हिस्सा है। Inbound हों या Outbound हमेशा quality links को ही Add करें। 

10. WordPress में Nofollow External Links

जैसा कि पहले बताया जा चुका है कि लिंक से सर्च इंजनों को यह तय करने में मदद मिलती है कि आपकी साइट के कौन से वेबपेज महत्वपूर्ण हैं और आपकी साइट का Content एक दूसरे से कैसे जुड़ा हुआ है।

लेकिन जब आप किसी वेबसाइट से लिंक करते हैं, तो आप अपनी साइट का कुछ SEO Score उस लिंक पर भेज रहे होते हैं। इस SEO score को SEO Experts “link juice” कहते हैं। 

ब्लॉग पोस्ट की SEO और सर्च रैंकिंग्स बेहतर करने के लिए आपको अन्य वेबसाइटों को जितना आप दे रहे हैं उससे अधिक लिंक जूस प्राप्त करना होगा। आइए अब जानते हैं कि अपनी साइट के Link Juice को कैसे बचा सकते हैं।

जब भी आप किसी external website से Link करें तो “nofollow” attribute का इस्तेमाल करें। इस nofollow  Attribute के इस्तेमाल से सर्च इंजन उन Links को Follow नहीं करते। ये आपकी साइट के Link Juice को Save कर देता है। 

Nofollow link आपकी साइट के User को लिंक पर क्लिक करने से नहीं रोकते। वे सिर्फ सर्च इंजनों को उन्हे follow करने से रोकते हैं। 

HTML में External Link कुछ ऐसा दिखाता है:

<a href=”http://example.com”>Example Website</a>

जबकि nofollow attribute वाला External link कुछ इस तरह दिखता है:

<a href=”http://example.com” rel=”nofollow”>Example Website</a>

ध्यान रखना चाहिए कि WordPress अपने आप किसी Link को nofollow नहीं बनाता। आप चाहें तो attribute के बदले SEO Plugins (AIOSEO Plugin) का इस्तेमाल कर के nofollow लिंक Create कर सकते हैं। 

No follow links

अगर आप AIOSEO plugin का Use नहीं करना चाहते तो Manually भी nofollow लिंक्स WordPress block editor में Add किए जा सकते हैं। इसके लिए जब भी आप कोई लिंक Add करें तो बस Add “nofollow” option पर क्लिक कर दें। 

Manually links adding.

लिंक बनाने के बाद सभी internal और external links को Verify करना ना भूलें। Verify करने से पता चल जाएगा कि वो लिंक्स काम कर रही हैं या नहीं।

11. WordPress में SEO के लिए Images Optimize करें

Internet पर पब्लिश होने वाले Articles या ब्लॉग पोस्ट में अगर Images, विडियो और ग्राफ शामिल कर दिये जाएँ तो वो आपके Content को पढ़ने में Interesting बना देते हैं। ये Media elements आपके आर्टिकल की क्वालिटी भी बढ़ाने में मदद करते हैं। 

लेकिन कैसी भी Images या Videos को Add करने से जरूरी नहीं है कि आपके Content की क्वालिटी बढ़ जाए। आपकी साइट में पब्लिश होने वाली सभी Images SEO Optimized होनी चाहिए। 

Google पहले ही यह बता चुका है कि उसके सर्च इंजन अभी तक इतने विकसित नहीं हुए हैं कि वो Images को समझ सकें। Google जैसे सर्च इंजन Text की सहायता से Images को Recognize करते हैं। 

सर्च इंजन आपकी Images को सही से समझ सकें इसके लिए जरूरी है कि आप अपनी Images को Proper और Relevant Names दें। Images के Name में अपनी Relevant Keywords जरूर शामिल करें। 

  • ALT TEXT जोड़ें: Image Optimization के लिए आपको ब्लॉग पोस्ट की सभी Images में ALT TEXT जोड़ना होगा। इमेज चाहे कैसी भी हो, featured या body images, आपको Alt Text जोड़कर गूगल जैसे सर्च इंजन के साथ-साथ Users को उस Image के बारे में बताना होगा। 

‘Alt text’ का मतलब ‘alternative text’ होता है जो इंटरनेट पट पब्लिश की जाने वाली Image का Description या विवरण होता है। यह तब भी Image का परिचय दे देती है जब Image को किसी भी कारण से देखने में कोई दिक्कत होती है। 

Image optimization for seo friendly blog post.

उदाहरण के लिए Visually Impaired लोग सिर्फ Image के विवरण को पढ़कर ही उसके Content को समझ सकते हैं। Alt Text आपको अपने ब्लॉग पोस्ट में Related Keywords इस्तेमाल करने की एक और जगह देती है। 

मान लीजिये अगर आप एक Image पब्लिश कर रहे हैं जो Keyword Research से संबन्धित है तो उसका नाम img0023 जैसा नहीं रखना चाहिए क्योंकि इस नाम से उस Image के बारे में कोई जानकारी नहीं मिलती है। उस Image का नाम Keyword-Research-basics.jpg या इससे मिलता जुलता होना चाहिए। 

  1. अपने सभी ब्लॉग पोस्ट में कम से कम 2-3 Images जोड़ें और उन्हे Optimize करें। Alt Text जोड़ें। 
  2. कोशिश करें कि अपनी खुद की Images ब्लॉग पोस्ट में शामिल करें। लोग Unique और नयी इमगेस पसंद करते हैं। stock photos वहीं इस्तेमाल करें जब दूसरा कोई विकल्प ना हो। 
  3. Images Add करने से Conversion Rate भी बढ़ता है। 
  4. अगर Images का Storage Size ज्यादा है तो उसे Compress कर दें। अगर Images Speed Optimized नहीं हैं तो वो User Experience के लिए अच्छा नहीं मनी जाती।  

12. अपने Content को  Featured Snippets के लिए Optimize करें

Google के सर्च रिजल्ट्स में Search Queries का सबसे Relevant और Direct उत्तर Featured Snippets के माध्यम से मिलता है। 

Google सर्च इंजन में पूछे गए प्रश्न के जवाब में सिर्फ उन्ही साइटों के पोस्ट के अंश शामिल करता है जो प्रश्न का पूर्ण और संक्षिप्त उत्तर देते हैं। अगर आपके ब्लॉग पोस्ट में किसी टॉपिक के ऊपर आर्टिकल है जो किसी प्रश्न का अच्छी तरह से और संक्षिप्त में जवाब देता है तो वो Featured Snippets में शामिल किया जा सकता है। 

आप चाहें तो अपने H1 और H2 Headings में उन focus Keywords को शामिल कर सकते हैं। अपने Content को छोटे-छोटे Points और Steps में लिखना भी फायदेमंद हो सकता है। 

हालांकि सबसे जायदा महत्वपूर्ण है आपकी साइट की Credibility और Authenticity जिसके बाद ही आपका Content SERPs में Featured Snippets के रूप में दिखाई दे सकता है। 

13. Users के लिए लिखें सर्च इंजन के लिए नहीं

आप जितनी भी SEO ब्लॉग पोस्ट के लिए मेहनत कर लें लेकिन अंत में आपके आर्टिकल को पढ़ना मनुष्यों को ही है। इसलिए आपका Content जितना अच्छा और high-quality का होगा आपके blog posts को सर्च रैंकिंग्स में उतनी ही ज्यादा High Position मिल सकती है। 

हमेशा Users और Readers View Point से सोचें और उन्ही पर फोकस करें। सिर्फ Search Engines को ध्यान में रखकर Article नहीं लिखें। अगर लोगों को आपका Blog Post पसंद आया तो Google और Bing सर्च इंजिन अपने आप ही उसे टॉप रैंक देंगे। 

अच्छे ब्लॉग पोस्ट के लिए इस Article में दिये गए Suggestions और Tips को जरूर Follow करें। ये Suggestions आपको WordPress में अपने ब्लॉग post को SEO Friendly बनाने में बहुत मदद कर सकते हैं। 

14. ब्लॉग पोस्ट की Readability और Grammar सही रखें

इंटरनेट पर Users ऐसा Article पढ़ना चाहते हैं जिसमें कोई गलती ना हो और जो पढ़ने में आसान हो। ब्लॉग पोस्ट आसानी से समझ में भी आ जाना चाहिए। 

अगर किसी ब्लॉग पोस्ट में Grammar की गलतियाँ होंगी या Confusing जानकारी हो, तो Users उसे पढ़ना बंद कर देंगे। इसलिए Article लिखते समय उसके Grammar, Readability और Central Idea पर ध्यान दें। 

आप जिस टॉपिक पर आर्टिकल लिख रहे हैं उससे जुड़ी हुई जानकारियाँ ही ब्लॉग पोस्ट में शामिल करें। Irrelevant और Useless डाटा Add ना करें। 

Readability Score चेक करने के लिए Flesch Reading-Ease और Flesch–Kincaid Grade Level टेस्ट कर सकते हैं। हालांकि ये दोनों सिर्फ इंग्लिश भाषा के Articles के लिए ही उपलब्ध है। 

Confusing Content आपकी साइट की सर्च रैंकिंग्स को नुकसान पहुंचा सकते हैं। Structured और well organized Content के सर्च रिजल्ट्स में में दिखने की संभावना अधिक होती है। 

Readability Score ना सिर्फ grammar और spelling पर निर्भर करता है बल्कि इस पर भी निर्भर करता है कि आपने अपने Content में कैसी भाषा का उपयोग किया है। क्या वो भाषा आसानी से समझ में आ सकती है? क्या एक साधारण आदमी आपके आर्टिकल को पढ़कर समझ सकता है? 

Readability बढ़ाने के लिए छोटे वाक्यों का प्रयोग करें। इसके लिए बड़े-बड़े Sentences को linking words की सहायता से Break कर देना चाहिए। 

The ideal length of a Sentence- max 20 Words

Yoast SEO Plugin एक वाक्य में अधिकतम 20 शब्द Recommend करता है। अगर किसी वाक्य में 20-22 से ज्यादा शब्द हों तो Linking words डालकर उसे अलग-अलग छोटे वाक्यों में तोड़ दें। 

छोटे Paragraphs लिखना भी ब्लॉग पोस्ट की Readability बढ़ाने में मदद करता है। 

15. WordPress Comments Optimize करें

किसी भी वेबसाइट के लिए Comments या टिप्पणियाँ आपकी वेबसाइट पर Users के जुड़ाव का एक अच्छा संकेत मानी जाती हैं।

जितना ज्यादा आपकी साइट से User Engagement बढ़ेगा उतनी ही ज्यादा आपको Links मिलेंगी। इससे SEO को Improve करने में भी बहुत आसानी होती है। 

लेकिन यह सुनिश्चित करने की ज़रूरत है कि आपकी टिप्पणियाँ Real होनी चाहिए न कि स्पैम। Spammers आपकी साइट के ब्लॉग पोस्ट में bad links वाली Comments submit कर सकते हैं। इससे आपके ब्लॉग पोस्ट की search rankings पर Negative Effect पद सकता है। 

Comments Spam को रोकने के लिए सभी WordPress साइट में एक pre-installed Plugin आता है जिसे Akismet कहा जाता है। 

16. WordPress SEO ब्लॉग के लिए Speed और Security बढ़ाएँ

किसी भी ब्लॉग पोस्ट में सभी WordPress SEO tips follow करने के बाद आपको वेबपेज की स्पीड और Security पर भी ध्यान देना चाहिए। 

भले ही अपने बहुत high quality content लिखा हो और भले ही आपने Linking भी की हो, लेकिन अगर आपकी साइट Load होने में ज्यादा समय लगाती है तो Users तुरंत किसी दूसरे सर्च रिज़ल्ट पर क्लिक कर के चले जाएंगे। 

ठीक इसी तरह अगर आपकी साइट Secure नहीं है और Hackers द्वारा हैक कर ली जाती है तो आपकी साइट की सर्च इंजन रैंकिंग में नुकसान हो सकता है। 

तेज़ स्पीड वाली साइट के लिए हमेशा किसी fast WordPress hosting Provider को चुनें। caching plugin भी इस्तेमाल कर सकते हैं। आप अपनी साइट के PageSpeed score को चेक करने के लिए Google के PageSpeed Insights का इस्तेमाल कर सकते हैं। 

Speed optimization

इस टूल में आप अपनी साइट के Performance को Desktop और Mobile दोनों के लिए चेक कर सकते हैं। 

Page speed insight

SSL/HTTPS का इस्तेमाल करें

इंटरनेट पर SSL (Secure Sockets Layer) एक ऐसी तकनीक है जो Users के ब्राउज़र और उस सर्वर के बीच कनेक्शन को एन्क्रिप्ट करती है जिससे वे कनेक्ट हो रहे हैं। इससे आपकी WordPress Site पर एक अतिरिक्त सुरक्षा परत जुड़ जाती है।

जो वेबसाइटें SSL से सुरक्षित होती हैं उनको ब्राउज़र के एड्रेस बार में पैडलॉक साइन द्वारा दर्शाया जाता है। सर्च इंजन और Users padlock sign वाली वेबसाइट को अधिक भरोसेमंद समझते हैं। अधिकतर WordPress Hosting Plans के साथ SSL/HTTPS encryption फ्री में मिलता है। 

Frequently Asked Questions (FAQs) 

  1. SEO क्या होता है?

    SEO से हम अपने वेबसाइट के पेजों को Search Engine और Users के लिए Optimize करते हैं ताकि वो आसानी से उन्हे समझ में आ सके। इससे हमारी साइट की उपयोगिता भी बढ़ती है। 

  2. एक अच्छे SEO Blog Post की लंबाई कितनी होनी चाहिए?

    वैसे तो इसका कोई सीधा उत्तर नहीं है लेकिन 2100 से 2450 Words का ब्लॉग पोस्ट अच्छा माना जाता है। यह इस बात पर भी निर्भर करता है कि आपकी पोस्ट की Content Quality कितनी बढ़िया है। 

  3. WordPress में SEO Friendly Blog Post कैसे लिखते हैं?

    इसके लिए SEO की बेस्ट Practices को follow करना होगा। ऊपर दिये गए Tips और Suggestions को अपने ब्लॉग पोस्ट में शामिल करें। 

Conclusion:

Google Search Rankings में टॉप पर रैंक करने के लिए सिर्फ SEO Tricks से काम नहीं चलता। आपको Quality Content लिखना पड़ेगा। Quality और Credible Content वाले Blog Post को ही ज्यादा Traffic और Links मिलते हैं।

WordPress और सर्च इंजन लगातार Develop हो रहे हैं। ऐसे में हमें भी अपनी साइट के ब्लॉग पोस्ट को SEO Friendly बनाने के लिए उसे Update करते रहना होगा।   

हमें उम्मीद है कि इस Article को पढ़ने के बाद आपको SEO Blog Post के लिए अपनी WordPress साइट को ठीक से Optimize करने में मदद मिलेगी। यहाँ दिये गए WordPress SEO tips को अपने Content में शामिल करें। 

वैसे तो आपके Blog Post के SEO friendliness को बढ़ाने के ऊपर दी गयी जानकारी को आप खुद Implement कर सकते हैं। लेकिन आप चाहें तो किसी SEO Expert का भी सहारा ले सकते हैं। 

कोई भी नया ब्लॉग पोस्ट लिखने से पहले प्लानिंग और रिसर्च जरूर कर लें और SEO friendly blog post लिखने से पहले ऊपर दी गईं Guidelines का पालन करें। 

RISHABH KOLHE

मैं इस ब्लॉग का संस्थापक हूं, मैंने 2017 में अपनी डिजिटल मार्केटिंग यात्रा शुरू की थी। पहले, मैंने अपने करियर की शुरुआत Culturelligence में SEO से की, फिर कुछ समय बाद, मैंने डिजिटल मार्केटिंग के बारे में और सीखा। मैंने एक US -आधारित मानव संसाधन संगठन, Agile PeopleOps के साथ एक डिजिटल मार्केटर के रूप में काम किया। अब मैं WealthyWork में काम कर रहा हूं, हम सभी डिजिटल मार्केटिंग सेवाओं में विशेषज्ञता रखते हैं।
View All Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *